Client and Server Side Scripting Languages

Client and Server Side Scripting Languages
क्लाइंट और सर्वर स्क्रिप्टिंग भाषाएँ
All websites generally run on two components namely:
सभी वेबसाइटें सामान्य तौर पर दो घटकों पर चलती हैं:
Client Scripting – क्लाइंट स्क्रिप्टिंग
To view a website, user has to use a browser. This browser can be termed as a client. The client can use different technologies like mobile phones, laptops, computers, tablets etc., to view the websites. Here the client side scripting is being used and processed. The client-side scripting is performed by a browser. वेबसाइट देखने के लिए, यूजर को एक ब्राउजर का उपयोग करना होता है। इस ब्राउजर को क्लाइंट के रूप में जाना जा सकता है। वेबसाइटों को देखने के लिए क्लाइंट विभिन्न तकनीकों जैसे मोबाइल फोन, लैपटॉप, कंप्यूटर, टैबलेट आदि का उपयोग कर सकता है। यहां क्लाइंट साइड स्क्रिप्टिंग का उपयोग और प्रोसेस्ड किया जा रहा है। क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग एक ब्राउजर द्वारा इस्तेमाल की जाती है।
Client-side scripting – क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग
It performed to generate a code that can run on the client end (browser) without needing the server side processing. Basically, these types of scripts are placed inside an HTML document. The client-side scripting can be used to examine the user’s form for the errors before submitting it and for changing the content according to the user input. The web requires three elements for its functioning which are client, server and database. The effective client-side scripting can significantly reduce the server load. It is designed to run as a scripting language utilizing a web browser as a host program. For example, when a user makes a request via browser for a webpage to the server, it just sent the HTML and CSS as plain text and the browser interprets and renders the web content in the client end.
क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग का कार्य एक कोड उत्पन्न करने के लिए किया जाता है जो सर्वर साइड प्रोसेसिंग की आवश्यकता के बिना क्लाइंट एंड (ब्राउजर) पर चल सकता है। मूल रूप से, इस प्रकार की स्क्रिप्ट को HTML डॉक्यूमेंट के अंदर रखा जाता है। क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग का उपयोग उपयोगकर्ता के फॉर्म को जांचने से पहले त्रुटियों के लिए और उपयोगकर्ता इनपुट के अनुसार सामग्री को बदलने के लिए किया जा सकता है। वेब को अपने कामकाज के लिए तीन एलिमेन्टो – क्लाइंट, सर्वर और डेटाबेस की आवश्यकता होती है। प्रभावी क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग सर्वर लोड को काफी कम कर सकती है। यह एक वेब ब्राउजर के उपयोग के लिए होस्ट प्रोग्राम के रूप में स्क्रिप्टिंग भाषा के रूप में चलाने के लिए डिजाइन किया गया है। उदाहरण के लिए जब कोई उपयोगकर्ता वेब पेज के लिए ब्राउजर के माध्यम से सर्वर से अनुरोध करता है, तो वह HTML और CSS को प्लेन टेक्स्ट के रूप में भेजता है और ब्राउजर क्लाइंट तक वेब सामग्री की व्याख्या कर उसे उपलब्ध कराता है।
Client-side scripting languages: क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग भाषाएँ
HTML – एचटीएमएल
It is the basic building blocks of web programming which provides the frame to the website. It describes the arrangement of the content.
यह वेब प्रोग्रामिंग का आधार है जो वेबसाइट को फ्रेम प्रदान करता है। यह कन्टेंट का वर्णन करता है।
CSS – सीएसएस
CSS provides the way to design the graphic elements which help in making the appearance of the web application more attractive.
सीएसएस ग्राफिक एलिमेन्टो को डिजाइन करने की विधि प्रदान करता है जो वेब एप्लिकेशन को अधिक आकर्षक बनाने में मदद करते हैं।
JavaScript – जावास्क्रिप्ट
It is also a client-side scripting language which essentially designed for the specific purpose, but currently there are various JavaScript frameworks used as server-side scripting technology
यह एक क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग भाषा है जो अनिवार्य रूप से विशिष्ट उद्देश्य के लिए तैयार की जाती है, लेकिन वर्तमान में सर्वर- साइड स्क्रिप्टिंग तकनीक के रूप में भी विभिन्न जावास्क्रिप्ट फ्रेमवर्क का उपयोग किया जाता है।
Earlier, Client scripting was used mainly for page navigation, formatting and data validation. Today, Client-side scripting is rapidly growing and evolving. As a result, it is now faster and easier to do client side scripting, leaving less work for the server.
इससे पहले, क्लाइंट स्क्रिप्टिंग का उपयोग मुख्य रूप से पेज नेविगेशन, फॉर्मेटिंग और डेटा सत्यापन के लिए किया जाता था। आज, क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग तेजी से बढ़ रही है और विकसित हो रही है। फलस्वरूप क्लाइंट साइड स्क्रिप्टिंग करना अब आसान और बहुत तेजी से कार्य करने वाला हो गया है, जिससे कि अब सर्वर का कार्य कम हो जाता है।
The Server Scripting – सर्वर स्क्रिप्टिंग
The server can, however, be at any remote place around the globe. The server can run back-end architecture of a website, process requests and response pages to the browser, and so on. Server-side scripting is usually done by a web server. The server-side scripting usually happens on the back-end of a website. The user does not get access to view what happens here.
यद्यपि, सर्वर दुनिया भर में किसी भी दूरस्थ स्थान पर हो सकता है। सर्वर किसी वेबसाइट के बैकइंड आर्किटेक्चर, प्रोसेस रिक्वेस्ट और ब्राउजर के रिस्पॉन्स पेज आदि चला सकता है। सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग आमतौर पर एक वेब सर्वर द्वारा किया जाता है। सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग आमतौर पर किसी वेबसाइट के बैक-इंड पर होती है। यहां क्या होता है, यह देखने के लिए उपयोगकर्ता को अधिकार नहीं मिलता है।
Server-side scripting is a programming language which can run and execute on the server side. In simple words any scripting or programming language that can run on the web server is known as server-side scripting. The operations like customization of a website, dynamic change in the website content, response generation to the user’s queries, accessing the database and so on are performed at the server end.
सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग एक प्रोग्रामिंग भाषा है जो सर्वर साइड पर रन और निष्पादित हो सकती है। सरल शब्दों में कोई भी स्क्रिप्टिंग या प्रोग्रामिंग भाषा जो वेब सर्वर पर रन कर सकती है, सर्वर–साइड स्क्रिप्टिंग के रूप में जानी जाती है। वेबसाइट को कस्टमाइज करना, वेबसाइट के कन्टेंट में निरंतर परिवर्तन करना, उपयोगकर्ता के प्रश्नों के लिए प्रतिक्रिया व्यक्त करना, डेटाबेस तक पहुंचना और इसी तरह के अन्य कार्य सर्वर पर किया जाता है।
The server-side scripting constructs a communication link between a server and a client (user). Earlier the server side scripting is implemented by the CGI (Common Gateway Interface) scripts. The CGI was devised to execute the scripts from programming languages such as C++ or Perl on the websites.
सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग सर्वर और क्लाइंट (उपयोगकर्ता) के बीच संचार लिंक का निर्माण करती है। पहले सर्वर साइड स्क्रिप्टिंग को CGI (कॉमन गेटवे इंटरफेस) स्क्रिप्ट द्वारा कार्यान्वित किया जाता है। CGI को वेबसाइटों पर प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे C ++ या पर्ल से स्क्रिप्ट निष्पादित करने के लिए तैयार किया गया था।
When a browser sends a request to the server for a webpage consisting of server-side scripting, the web server processes the script prior to serving the page to the browser. Here the processing of a script could include extracting information from a database, making simple calculations or choosing the appropriate content that is to be displayed in the client end. The script is being processed and the output is sent to the browser. The web server abstracts the scripts from the end user until serving the content, which makes the data and source code more secure.
जब कोई ब्राउजर सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग वाले वेब पेज के लिए सर्वर को एक अनुरोध भेजता है, तो वेब सर्वर ब्राउजर को पेज की जानकारी भेजने से पहले स्क्रिप्ट को प्रोसेस करता है। यहां एक स्क्रिप्ट के प्रोसेस में डेटाबेस से जानकारी निकालना, उसे सरल गणना करना या यूजर को प्रदर्शित होने वाली उपयुक्त सामग्री चुनना, शामिल हो सकता है। स्क्रिप्ट को प्रोसेस करके और आउटपुट ब्राउजर को भेजा जाता है। वेब सर्वर सामग्री की सेवा करने तक अंतिम उपयोगकर्ता से स्क्रिप्ट को ऐबस्ट्रैक्ट करता है, जो डेटा और स्रोत कोड को अधिक सुरक्षित बनाता है।
Server-side scripting languages: सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज
After the introduction of CGI, multiple programming languages were evolved such as PHP, Python, Ruby, ColdFusion, C#, Java, C++ and so on for server-side scripting among which some of them are described below:
CGI के आने के बाद, कई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज विकसित की गईं जैसे PHP, Python, Ruby, ColdFusion, C #, Java, C++ और इसी तरह सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग जिसके लिए उनमें से कुछ नीचे वर्णित हैं:
PHP – पीएचपी
It is the most prevalent server-side language used on the web which was designed to extract and manipulate information in the database. The language is used in association with SQL language for the Database. It is used in Facebook, Word Press and Wikipedia.
यह वेब पर उपयोग की जाने वाली सबसे प्रचलित सर्वर–साइड भाषा है जिसे डेटाबेस से सूचना निकालने और सूचना में बदलाव करने के लिए डिजाइन किया गया था। डेटाबेस के लिए भाषा का उपयोग SQL भाषा के साथ किया जाता है। इसका उपयोग फेसबुक, वर्डप्रेस और विकिपीडिया में किया जाता है।
Python – पाइथन
The language is fast and contains shorter code. It is good for beginners as it concentrates on the readability and simplicity of the code. Python functions well in the object-oriented environment and used in famous sites like YouTube, Google, etc.
यह एक तेज गति से कार्य करने वाली भाषा है और इसमें छोटे-छोटे कोड का प्रयोग होता है। यह बिगिनर के लिए अच्छी लैंग्वेज मानी जाती है क्योंकि यह कोड की पठनीयता और सरलता पर ध्यान केंद्रित करती है। पायथन ऑब्जेक्ट-ओरिएंटेड वातावरण में अच्छी तरह से कार्य करती है और यूट्यूब, गूगल आदि जैसी प्रसिद्ध साइटों में इसका उपयोग किया गया है।
Ruby – रूबी
A dynamic, (डायनामिक) open source programming (प्रोग्रामिंग) language with a focus on simplicity and productivity. It has an elegant syntax that is natural to read and easy to write.
यह सादगी और उत्पादकता पर ध्यान देने के साथ एक डायनामिक, ओपन सोर्स प्रोग्रामिंग भाषा है। इसमें एक स्टाईलिस सिन्टैक्स है जो पढ़ने योग्य और लिखने में आसान है।
How  Make a Responsive Website
About me