Linux Operating System

Linux Operating System – लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम्स
Linux is popular operating system for PC users around the world. It is an independent Portable Operating System Interface (POSI) implementation. Linux (लिनक्स) does true multitasking and includes virtual memory, shared libraries, demand loading, memory management, TCP/IP networking and other features that are available with current full featured commercial operating systems. This operating system was initially created by Linus Torvalds, in 1991. In 1994 the first version of Linux (लिनक्स) Kernel was released on Internet. Linux (लिनक्स) is an example of Open Source Code Operating System. It has nearby all the features present in Unix Operating System. Linux (लिनक्स) also supports TCP/IP protocol and we can access Local Area Network and Internet. Linux is generally provided with two types of Graphical User Interface one is known as KDE and other one is known as Gnome. Other interfaces like command interpreter is also available.
लिनक्स दुनिया भर के पीसी उपयोगकर्ताओं के लिए लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम है। यह एक स्वतंत्र पोर्टेबल ऑपरेटिंग सिस्टम इंटरफेस (POSI) की तरह कार्य करता है। लिनक्स में वास्तविक मल्टीटास्किंग होती है और इसमें वर्चुअल मेमोरी, शेयर्ड लाइब्रेरीज, डिमांड लोडिंग, मेमोरी मैनेजमेंट, टीसीपी/आईपी नेटवर्किंग और अन्य फीचर्स शामिल होते हैं जो वर्तमान में पूर्ण विशेषताओं वाले कमर्शियल ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ उपलब्ध हैं। यह ऑपरेटिंग सिस्टम शुरुआत में 1991 में लाइनस टॉर्वाल्ड्स द्वारा बनाया गया था। 1994 में लिनक्स कर्नेल का पहला संस्करण इंटरनेट पर जारी किया गया था। लिनक्सओपन सोर्स कोड ऑपरेटिंग सिस्टम का उदाहरण है। इसमें यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में मौजूद सभी विशेषताएं हैं। लिनक्स टीसीपी/आईपी प्रोटोकॉल का भी सपोर्ट करता है और हम इसमें लोकल एरिया नेटवर्क और इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं। लिनक्स आमतौर पर दो प्रकार के ग्राफिकल यूजर इंटरफेस के साथ प्रदान किया जाता है एक है KDE और दूसरा GNOME | इसके अन्य इंटरफेस जैसे कमांड इन्टरप्रेटर आदि भी उपलब्ध हैं।
1.Kernel: Kernel is the core part of (लिनक्स) Linux. It is responsible for all (सभी) major activities of this operating system. It consists of various modules (भिन्न प्रकार) and it interacts directly with the underlying hardware. Kernel (कर्नल) provides the required abstraction to hide low level hardware details to system or application programs. A kernel (कर्नल) is a low level program interfacing with the hardware (CPU, RAM, disks, network ) on top of which applications are running. It is the lowest level program running on computers (कंप्यूटर) although with virtualization you can have multiple kernels running on top of virtual machines which themselves run on top of another operating system.
कर्नलः कर्नल Linux का मुख्य भाग है। यह इस ऑपरेटिंग सिस्टम की सभी प्रमुख एक्टिविटी के लिए उत्तरदायी होता है। यह विभिन्न मॉड्यूल के होते हैं और यह आधारभूत हार्डवेयर के साथ डायरेक्टिली इंटरैक्ट करता है। कर्नल सिस्टम या एप्लिकेशन प्रोग्राम्स के लिए लो-लेवल के हार्डवेयर डिटेल को हाइड करने हेतु रिक्वायर्ड ऐन्ट्रैक्शन प्रोवाइड करता है। एक कर्नल, हार्डवेयर लेवल (सीपीयू, रैम, डिस्क, नेटवर्क) के साथ एक लो-लेवल के प्रोग्राम इंटरफेस होता है, जिनके ऊपर एप्लिकेशन रन कर रहे होते हैं। यह कंप्यूटर पर चलने वाला सबसे लो-लेवल का प्रोग्राम है, हालांकि वर्चुअलाइजेशन के साथ आप वर्चुअल मशीनों के ऊपर रन करने वाले कई कर्नल रख सकते हैं जो स्वयं दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम के टॉप पर रन करते हैं।
2.System Library – System libraries (सिस्टम लाइब्रेरी) are special functions or programs using which application programs or system utilities accesses Kernel’s features. These libraries (लाइब्रेरीज) implement most of the functionalities of the operating system and do not require kernel module’s code access rights.
सिस्टम लाइब्रेरी– सिस्टम लाइब्रेरी एक स्पेशल फंक्शन्स या प्रोग्राम्स होते हैं जो एप्लिकेशन प्रोग्राम या सिस्टम यूटिलिटीज, कर्नल के फीचर्स को एक्सेस करते के लिए यूज करता है। ये लाइब्रेरी, ऑपरेटिंग सिस्टम के अधिकांश फंक्शनैलिटी को इंप्लिमेंट करते हैं और इन्हे कर्नल मॉड्यूल के कोड को एक्सेस राइट्स की आवश्यकता नहीं होती है।
3.Shell: – A shell is a command interpreter, i.e. the program that either processes the command you enter in your terminal (टर्मिनल) emulator (interactive mode) or process shell scripts (text files containing commands) (batch mode). In early UNIX (यूनिक्स) times, it used to be the unique way for users to interact with their machines. Nowadays, graphical (ग्राफिकल) environments are replacing the shell for most casual users.
शेल- शेल एक कमांड इंटरप्रेटर है, प्रोग्राम, जो कि आपके टर्मिनल एमुलेटर (इंटरैक्टिव मोड) या शेल स्क्रिप्ट्स (टैक्स्ट फाइले जो कमांड्स को कंटेन करती हैं) (बैच मोड) प्रोसेस में एंटर किए जाने वाले कमांड को प्रॉसेस करता है। यूनिक्स के शुरुआती दिनों में, यह यूजर्स को अपनी मशीनों के साथ इंटरैक्ट करने के लिए एक यूनिक तरीका था। आजकल,ग्राफिकल इंन्वायरोमेंट्स अधिकांश कैजुअल यूजर्स के लिए शैल को रिप्लेस कर रहे हैं।
Feature of Linux operating system:लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के फीचर
Multi-user capability: Multiple users (मल्टी यूजर) can access the same system resources like memory, hard disk, etc. But they have to use different (टर्मिनल) terminals to operate.
बहुउपयोगकर्ता क्षमताः कई उपयोगकर्ता एक ही सिस्टम संसाधनों जैसे मेमोरी, हार्ड डिस्क आदि का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन उन्हें संचालित करने के लिए विभिन्न टर्मिनलों का उपयोग करना पड़ता है।
• Multitasking: More than one function (फंक्शन) can be performed simultaneously by dividing the CPU time intelligently.
मल्टीटास्किंग: सीपीयू के समय को सही से विभाजित करके एक से अधिक कार्य एक साथ किए जा सकते हैं।
• Portability: Portability doesn’t mean (मीन) it is smaller in file size or can be carried in pen drives or memory cards. It means that it support (सपोर्ट) different types of hardware.
पोर्टेबिलिटी: पोर्टेबिलिटी का मतलब यह नहीं है कि यह फाइल आकार में छोटा है या इसे पेन ड्राइव या मेमोरी कार्ड में ले जाया जा सकता है। इसका मतलब है कि यह विभिन्न प्रकार के हार्डवेयर को सपोर्ट करता है।
• Security: It provides security (सिक्यूरिटी) in three ways namely authenticating (by assigning password and login ID), authorization (by assigning permission to read, write and execute) and encryption (converts file into an unreadable format).
सुरक्षाः यह तीन तरीकों से सुरक्षा प्रदान करता है अर्थात् ऑथेन्टिकेटिंग (पासवर्ड और लॉगिन आईडी असाइन करके), औथोराईजेशन (पढ़ने, लिखने और एक्सिक्यूट करने की अनुमति प्रदान करके) और एन्क्रिप्शन (फाइल को एक अपठितप्रारूप में करके )
• Graphical User Interface (X Window system): Linux is command line based OS but it can be converted to GUI based by installing packages.
ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (एक्स विंडो सिस्टम) : लिनक्स कमांड लाइन आधारित ओएस है लेकिन इसमे पैकेजों को इन्सटॉल करके जीयूआई में परिवर्तित किया जा सकता है।
• Application support: It has its own (सॉफ्टवेयर) software repository from where users can download and install many applications.
एप्लिकेशन सपोर्ट: इसके पास अपना सॉफ्टवेयर रिपॉजिटरी है जहां से उपयोगकर्ता कई एप्लिकेशन डाउनलोड और इंस्टॉल कर सकते हैं।
• File System: Provides hierarchical (फाइल सिस्टम) file system in which files and directories are arranged.
फाइल सिस्टमः पदानुक्रमित फाइल सिस्टम प्रदान करता है जिसमें फाइलें और डॉयरेक्ट्री व्यवस्थित होती हैं।
• Open Source: Linux (लिनक्स) code is freely available to all and is a community based development project.
ओपन सोर्सः लिनक्स कोड सभी के लिए स्वतंत्र रूप से उपलब्ध है और एक समुदाय आधारित विकास परियोजना है।
Introduction of Ubuntu Operating System
About me